Chhath Puja 2022: छठ पूजा में महिलाएं नाक से मांग तक क्यों लगाती हैं सिंदूर

51

छठ पूजा की शुरुआत 28 अक्टूबर से हो गई है। 4 दिन तक चलने वाले इस त्योहार में महिलाएं अपनी संतान और सुहाग के लिए कामना करती हैं और निर्जला व्रत रखती हैं। यह त्योहार मुख्यतः पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार में मनाया जाता है। इस पूजा में खास बात होती है कि इस दिन नाक से मांग तक सिंदूर लगाने का विधान है। आइए जानते हैं छठ पूजा में सिंदूर को नाक तक क्यों लगाया जाता है…

छठ में क्यों लगाते हैं नाक तक सिंदूर

सिंदूर सुहाग की निशानी होती है।
छठ के दिन महिलाएं नाक तक सिंदूर पति की लंबी उम्र के लिए लगाती हैं।
यह सिंदूर जितना लंबा होगा, उतनी ही पति की लंबी उम्र होगी।
लंबा सिंदूर पति के लिए शुभ होता है।
लंबा सिंदूर परिवार में सुख संपन्‍नता का प्रतीक माना जाता है।
इस दिन लंबा सिंदूर लगाने से घर परिवार में खुशहाली आती है।
इस दिन सूर्यदेव की पूजा के साथ महिलाएं अपने पति और संतान के सुख, शांति और लंबी आयु की कामना करते हुए अर्घ्‍य देकर अपने व्रत को पूर्ण करती हैं।